आरटेट में इस बार नहीं चलेगा पुराना फ़ॉर्मूला, बोर्ड ने किए महत्वपूर्ण बदलाव

0
519

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने इस बार टेट के लिए आवेदन प्रक्रिया में बदलाव किया गया है। यह सबकुछ ग्रेड थर्ड शिक्षक भर्ती के कड़वे अनुभव को देखते हुए किया गया है। दो स्तरों पर आयोजित होने वाली इस पात्रता परीक्षा में अब दोनों लेवल के लिए न्यूनतम तीन साल के शिक्षक प्रशिक्षण की पात्रता होने वाले अभ्यर्थियों को ही शामिल किया जा रहा है।

परीक्षा आठ सितंबर को होने जा रही है। परीक्षा प्रथम और द्वितीय दो चरणों में आयोजित की जाएगी। प्रथम स्तर कक्षा एक से पांच और दूसरा स्तर कक्षा छह से आठ तक के लिए आयोजित किया जाएगा। पिछले साल बोर्ड की ओर से आयोजित की गई इस परीक्षा में बीएड योग्यताधारियों को लेवल प्रथम और लेवल द्वितीय की परीक्षा के लिए पात्र माना गया था। इतना ही नहीं बोर्ड की ओर से इन्हें शिक्षक पात्रता के प्रमाण पत्र भी जारी कर दिए गए थे। इसका खामियाजा हाल ही में हुई तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती परीक्षा में विवादास्पद स्थितियों के रूप में सरकार को झेलना पड़ा। इतना ही नहीं यह भर्ती प्रकरण न्यायालयतक पहुंच गया। भर्ती के दौरान अपना हक छीनने का बीएड और बीएसटीसी योग्यताधारियों में जबर्दस्त टकराव हो गया था। जिसके बाद न्यायालय ने बीएड योग्यताधारियों को लेवल प्रथम की परीक्षा के लिए अपात्र माना। अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से मांगे जा रहे टेट परीक्षा आवेदनों में सिर्फ उन्हीं अभ्यर्थियों को दोनों परीक्षा स्तरों के लिए पात्र माना जा रहा है जिनके पास बीएसटीसी और बीएड की योग्यताएं हैं। सिर्फ ऐसे अभ्यर्थी ही दोनों स्तर की परीक्षाओं में प्रविष्ट हो सकेंगे। साथ ही सिर्फ बीएड की पात्रता रखने वाले अभ्यर्थियों को प्रथम स्तर की टेट परीक्षा के लिए पात्र नहीं माना जा रहा है। ऑनलाइन आवेदन पत्र भरते समय सिर्फ बीएड की योग्यता वाले अभ्यर्थियों को दोनों स्तरों की टेट परीक्षा के लिए पात्र नहीं माना जा रहा है। इनका ऑनलाइन फॉर्म ही जनरेट नहीं हो रहा है। अभी तक संग्रहण केंद्र तय नहीं राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा के आवेदन जमा कराने के संग्रहण केंद्रों की घोषणा नहीं होने से अभ्यर्थी असमंजस में हैं। परीक्षा के लिए अभ्यर्थी आवेदन करने के बाद कॉलेजों में चक्कर लगा रहे हैं लेकिन कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिल पा रहा है।
14 जून से शुरू हुई ऑनलाइन फार्म जमा कराने की प्रक्रिया के तहत अभी तक 15 हजार से अधिक आवेदन हो चुके हैं। शेखावाटी से 60 हजार अभ्यर्थी शामिल होने की उम्मीद है। बोर्ड ने इस बार व्यवस्था की है कि आरटेट 2011 की परीक्षा के अंकों में सुधार के लिए भी अभ्यर्थी प्राप्तांक सुधार के लिए आवेदन कर सकता है। कई अभ्यर्थियों के मन में आशंका है कि वे आरटेट 2012 की परीक्षा में बैठने के बाद 2011 की तुलना में आरटेट में अंक कम आए तो फिर बोर्ड कौन से अंक मानेगा। पूर्व में 2011 में आए या फिर 2012 में आए अंक। इस बात की शंका को देखते हुए पिछले साल आरटेट में सफल हो चुके अभ्यर्थी इस बार आवेदन नहीं कर रहे हैं क्योंकि इस बार आरटेट के ऑनलाइन फार्म में पिछले साल के आरटेट के रोल नंबर भी मांगे जा रहे हैं। बोर्ड अध्यक्ष का कहना है कि अभ्यर्थियों आवेदन जमा कराने को लेकर चिंतित नहीं हों। बोर्ड द्वारा जारी विज्ञप्ति में सेंटर्स की घोषणा बाद में करने की बात कही जा चुकी है। जल्दी ही संग्रहण केंद्रों की घोषणा कर देंगे।
article bottom

LEAVE A REPLY